सोमवार, 25 जनवरी 2016

लोकतंत्र की लाज बचाओ

Edit Posted by with No comments

लोकतन्त्र की भारत रोता



लोकतंत्र का भारत रोता ,
लोकतंत्र की लाज बचाओ ।

फिर से कोई गांधी लाओ ,
लाल बहादुर और सुभाष लाओ।

नेता लूट-लूट कर बिदेशो में जमा करते ,
जब देखो तब टेक्स बढ़ातें ।

अगर संभव हो तो ,
गरीबो को हक दिलवाओ ।

सच्चाई बेहोश पड़ी है ,
सीना ताने अनीति खड़ी है ।

पुलिस नपुंसक हुई हमारी ,
हाल ह्रदय को किसे बताऊ ।

नई सदी चल रही आज फिर ,
अजब गजब वह ढ़ाती जाती ।

कुछ तो अब करतब दिखाओ ,
भारत को अब खुशहाल बनाओ ।।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: