रविवार, 3 जनवरी 2016

पहने फूलो का माला

Edit Posted by with No comments

पहने फूलो की माला



पहने फूलो का माला ,
बनता जन का रखवाला ,
निर्धन का छीने निवाला ,
करता नित दिन घोटाला ,
बोले गांधी का भाषा ,
सब बढ़े यही अभिलाषा ,
यह कैसा खेल तमाशा ,
जन में तो घोर निराशा ,
निर्धन निचे है जाता ,
दो जून नही खा पाता ,
बस यही उन्हें है भाता ,
चुने देख भाग्य विधाता ,
निचे धरती ऊपर नभ् ,
पंछी गण करते कलरव ,
करते धोखा ये मिल सब ,
आगया वक्त जागो सब ।।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: