शनिवार, 16 जनवरी 2016

तन का मत अभिमान किया कर

Edit Posted by with No comments

तन का मत अभिमान किया कर



तन का मत अभिमान किया कर ,
'सेहत 'का सम्मान किया कर ।

कल की चिंता में न 'आज' का
पल -पल में न अपमान किया कर ।

अंतिम ठौर ठिकाना सबका ,
मरघट का भी ध्यान किया कर ।

प्रेम सूत्र है इस जीवन का ,
इसका भी गुण गान किया कर ।

देह देवता का मन्दिर है ,
मत इसको दूकान किया कर ।

अपनी ''हंसी''खनकने दे तू ,
मुस्कानों का मान किया कर ।

भारत माँ ने जन्म दिया है ,
इस सब पर बलिदान किया कर ।

पीछे कर दे सारी दुनिया ,
आगे हिन्दुस्तान किया कर ।।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: