सोमवार, 25 जनवरी 2016

सम्प्रदायिकता

Edit Posted by with No comments

सम्प्रदायिता



सम्प्रदायिकता एक जहर है ,

किन्तु कहा है ,

किसके घर है .

इसकी परिभाषा होनी है ,

कौन करेगा ?


कुर्सी रक्षक वाद और वादो के पंख .

जिनके धर्म निरपेक्षि हमाम में ,

सब तो नंगे है ,

करवाते रोज दंगे है ,

स्वयं कांच के घर में रह कर ,

चला रहे है पत्थर ,

उनके वापस आने परह ,

कहा जाएंगे बच कर ,

कितना पतन करवाएंगे ,

ये वोट के चक्कर ?

रोचक

0 टिप्पणियाँ: