मंगलवार, 22 दिसंबर 2015

Edit Posted by with No comments

दोस्तों ,

   
 क्या बताए क्या गम मेरे अंदर है ,
   
 कागज की सवारी और राह समन्दर है ।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: