गुरुवार, 24 दिसंबर 2015

कोई दीवाना समझता है कोई पागल समझता है

Edit Posted by with No comments

कोई दीवाना कहता है


कोई दीवाना कहता है
कोई पागल समझता है
मगर धरती की बैचैनी तो
बस बादल समझता है
मैं तुमसे दूर कैसे हूँ
तू मुझसे दूर कैसे हो
ये तेरा दिल समझता है
ये मेरा दिल समझता है ।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: