मंगलवार, 22 दिसंबर 2015

बन गया मालीक जो चौकीदार था

Edit Posted by with No comments

जबरन मालिक बन गए जो चौकीदार थे



जबरन बन गये मालिक जो चोकीदार है ,
कागजी था शेर अब भेड़िया खूंखार है,
हमारी गलतियों का नतीजा ये हमारी सरकार है ,
सर से पैर तक एहशांफ़रामोशी भरी है जिनके ,
और हर इक रंग भी इसकी शातिरों-मक्कार है ,
हमारे ही वोटो से पुश्ते इनकी पलती है मगर ,
हमपे ही गुर्राए ...हद दर्जे का गद्दार हैं ,
अपनी खिदमत के लिये हमने बनाया खुद इसे ,
घर का जबरन बन गया मालिक जो चोकीदार है ,
निभ सकी न इससे अब तक अपनी जिम्मेदारियां ,
चन्द दिनों में रुखसती का दिख रहा आसार है ,
सब तेरी मनमानियां सह ली मगर सुन ,
फैसला करने को जनता देश को तैयार है .
पूजना शैतान को हमारी मजबूरी नही ,
वोट ही हम लोगो की अहम तलवार है ।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: