शुक्रवार, 15 जनवरी 2016

मेरा एक मित्र है

Edit Posted by with No comments

मेरा एक मित्र है





मेरा एक मित्र है
स्वभाव से विचित्र है
लोग उसे मुर्ख कहते है
उसकी सबसे बड़ी मूर्खता है कि
वह अपनी बीबी से मोहब्बत करता है
भला बताइये बीबी भी
कोई मोहब्बत की चीज है
वह तो घर की मुर्गी है
जब चाहिए साग बनाइये
मोहब्बत तो किसी फ़िल्म वाली से होती है
हुस्न वाली से होती है
अथवा साली से होती है
कभी कभी अड़ोस पड़ोस में भी चल जाती है
उसे क्या मालुम मोहब्बत से जिंदगी में रोमांस रहता है
बॉडी तनी रहती है
मोहब्बत के बिना जिंदगी
 बिना नमक का दाल है
बिना तेल का मशाल है
बीबी तो माँ बाप की पसन्द है
जहां प्यार का द्वार एकदम से बन्द है
बीबी सुनियोजित बवाल है
प्रेमिका तस्करी का माल है
बीबी पथ का संत्रास है
और प्रेमिका वाईपास है
बीबी जेबकतरा है एक्सिडेंट भी है
प्रेमिका बार है रेस्टुरेंट है
बीबी ज्वलनशील है
प्रेमिका घुलनशील है
बीबी निम चढ़े करेला है
प्रेमिका मधुर स्वाद है
बीबी सत्य नरायण की कथा है प्रेमिका प्रसाद है
इसलिये कह रहा हूँ
अबे घड़ाम घोचुं अक्ल के चोचू
बीबी की गुलामी छोडो
मोहब्बत का महाजन बन जा
गजल का शेर निकाल
बेकार का भजन मत गा
अपनी प्रेमिका के लिए रोज मिटा कर
भले ही हर आठवे दसवे दिन
पत्नी से या गलियों में पिटा कर ।


रोचक

0 टिप्पणियाँ: