गुरुवार, 14 जनवरी 2016

ये दौर नही रुकने का

Edit Posted by with No comments

ये दौर नही रुकने का




ये दौर नही है रुकने का ,
ये दौर नही है झुकने का ,
हो चूका है शंखनाद
अब तो बस रण ही रण है
भ्रष्ट्राचार की लड़ाई का अब
आ गया निर्णायक क्षण है ,
जनता का जनता को
जनता के लिये ये आमन्त्रण है ।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: