रविवार, 3 जनवरी 2016

संकट ग्रस्त हुआ भू पर मनुजता

Edit Posted by with No comments

संकट ग्रस्त हुआ भू पर आज मनुजता का अस्तित्व


संकट ग्रस्त हुआ भू पर आज मनुजता का अस्तित्व ।

मनुष्यता से रहित हुआ है आज व्यक्तियों का व्यक्तित्व ।

है अज्ञान अभाव अनय का फैला था कुलषित अंधियारा ।

आज तिमिर ने शक्ति सृजित कर प्रभा पुंज को ही ललकारा ।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: