सोमवार, 4 जनवरी 2016

सत्ता पर बैठे ब्रह्नल्ला तो स्वभिमान कैसे जागे

Edit Posted by with No comments

सत्ता पर बैठा ब्रह्नला तो , 

स्वभिमान कैसे जागे ।


सत्ता पर बैठे ब्रह्नला तो ,
स्वभिमान कैसे जागे ,
अपने स्व पर विश्वास नही ,
तब दुःख दरिद्र कैसे भागे ,
रक्षक ही भक्षक बन बैठे ,
तो सोचो देश बची कैसे ?

जब बोये पेड़ बबूल के ,
तो आमो के फल लगे कैसे ,
रोको इन शूल बबूलों के ,
मधुमास फिर बिकने पाय ,
भारत माँ का अपमान न हो ,
उधान फिर न लूटाने पाये ,
मन के सम्प्रभुता मिटा सके ,
अब गांडीव उठाना ही होगा ,
अंदर - बाहर के दुश्मन के ,
अब वंश मिटाना ही होगा ।।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: