गुरुवार, 14 जनवरी 2016

अन्याय सहना करने से ज्यादा खतरनाक है

Edit Posted by with No comments

अन्याय सहना करने से ज्यादा  खतरानाक   है 



हम लोग कायरता के विरुद्द पढ़ बोल सुन सकते पर कुछ कर नही सकते । कायरता के विषाणु हमारे रोम रोम के अंदर घुस आये है । तभी तो डर और खौफ का मंजर समाप्त नही होते ।अन्याय सहना अन्याय करने से ज्यादा खतरनाक है । हम सोचते रहते है कि वो आयेगा और हमे भ्रष्ट्राचार और अन्याय से मुक्ति दिला देगा । और वही तो यह सब करता है और कराता है ,इसके लिये हमे खुद आगे बढ़ना होगा ।
उठ देश कर त्राहि त्राहि ,
अब तो इसे बचाओ ,
एक बार फिर भारी भू पर ,
इन शैतानो के विरुद्द तुम आवाज तो उठावो ।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: