शुक्रवार, 25 दिसंबर 2015

देश लूट रहा

Edit Posted by with No comments
देश लूट रहा है , पिट रहा है , आताताई , अराजक , निशाचरी शक्तियों का आतंक देश के जन जीवन के लिये स्थायी अभिशाप बनता जा रहा है ।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: