गुरुवार, 24 दिसंबर 2015

जीवन एक समर भूमि है

Edit Posted by with No comments

यह दुनिया एक समर भूमि है




यह दुनिया आदमी के मन की दया पर नही बल्कि उसकी कलाई की ताकत पर चला करती है ।आदमी की दुनिया में चल रही सारी दौड़ धूप केवल भोग के लिये होती है ।त्याग की बात मन्दिर , पुराण और कीर्तन में ही ठीक लगती है लिकिन जीवन कोई मन्दिर नही वह एक समर भूमि है ।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: