सोमवार, 28 दिसंबर 2015

जो निरे अयाश थे सन्त कहलाये गये

Edit Posted by with No comments

जो निरे अयाश थे सन्त कहलाये गए




इस कदर गदला गई है इस जमाने की हवा ,
जो निरे अयाश थे वे सन्त कहलाये गये ,
कभी बेहयाई से कभी बेहद सफाई से ,
कभी मुकदमे बाजी से , कभी हाथापाई से ,
कभी सौदेबाजी से सजाते है दुकाने झूठ की ,
और गुर्राते है जो इनको पालता है उसीको काट खाते है ।।
रोचक

0 टिप्पणियाँ: