सोमवार, 21 दिसंबर 2015

एक तिनका ही सही

Edit Posted by with No comments

क्यों घुटन नैराश्य , कुंठा त्रास की बातें करे ,


एक तिनका ही सही विश्वास की बातें करे ,


आपका ये दो मुहाँ दर्शन समझ आता नही ,


ले संकल्प फिर सन्यास की बातें करे ,


साथ रहते दुरिया लेकर बहुत दिन जी लिये ,


दूर रहकर अब दिलों से पास की बातें करें ,


खौप के बादल छटे हर स्वप्नदर्शी आँखों से ,


इंद्रधनुषी रंग भी मधुमास की बातें करें ,


दर्द तो दर्द है इसकी जाती की पहचान क्या ,


हर किसी के दर्द के अहसास की बातें करें ।

रोचक

0 टिप्पणियाँ: